44 पंचायत सहायकों का इस्तीफा, फिर भर्ती: यह रहेगी प्रक्रिया

ग्रामीणों की सुविधा के लिए बनाए गए मिनी सचिवालय में एक बार फिर काम मुश्किल से होगा। संविदा पर नौकरी पाने के बाद जिले की 44 पंचायतों से सहायकों ने इस्तीफा दे दिया। इनकी जगह नई नियुक्ति का नोटिफिकेशन जारी किया गया है। जिन 44 सहायकों ने इस्तीफा दिया है, इनमें से कुछ ने यह कारण बताया कि उनका दूसरी जगह चयन हो गया है, जबकि अधिकांश ने व्यक्तिगत कारण बताकर पद से इस्तीफा दिया है। इसका कारण यही बताया जा रहा है कि काम शुरू करने के बाद लोगों को लगा कि छह हजार रुपये से अधिक मेहनत का काम है।

ग्रामीणों की सहूलियत के लिए पिछले साल पंचायत चुनाव के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पंचायत सहायकों की नियुक्ति की बात कही थी। पंचायत भवनों में मिनी सचिवालय बनाने की बात हुई। जिससे ग्रामीणों को आय, निवास, जाति प्रमाणपत्र, पीएम आवास, शौचालय आदि के लिए तहसील के चक्कर न काटने पड़े।

नियुक्ति के समय ही उठे थे सवाल: नियुक्ति के लिए जो नोटिफिकेशन जारी था, उसमें कंप्यूटर दक्षता की बात नहीं थी। जबकि सहायक का कंप्यूटर पर काम करना जरूरी था। ऐसे में मेरिट से ऐसे लोग भी आ गए, जिन्हें कंप्यूटर चलाना नहीं आता था।

भर्ती की यह रहेगी प्रक्रिया

● आज से 18 जून तक डीपीआरओ और ब्लॉक कार्यालय में फॉर्म जमा होंगे।

● चार से नौ जून के बीच सभी आवेदन पत्र पंचायतों को दिए जाएंगे।

● 10 से 17 जून के बीच मेरिट के आधार पर आए आवेदनों की जानकारी डीपीआरओ को दी जाएगी।

● 18 से 25 जून के बीच डीएम की अध्यक्षता वाली कमेटी स्क्रीनिंग करेगी।

● 26 जून को पंचायत सहायकों को नियुक्ति पत्र मिलेगा।

तमाम लोगों ने दूसरी जगह भर्ती के कारण इस्तीफा दिया है। वहीं कुछ के दूसरे कारण हैं। अब नई भर्ती कराई जाएगी।

आलोक कुमार सिन्हा, डीपीआरओ