निपुण आकलन परीक्षा में लापरवाही पर दो अध्यापकों का रोका वेतन

सुल्तानपुर। निपुण आकलन परीक्षा के दिन एसए ने पांच विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया था। निरीक्षण में लापरवाह मिले दो अध्यापकों का वेतन रोका गया है वहाँ एक अनुदेशक को लंबे समय से अनुपस्थित रहने पर मानदेय रोकते हुए बीईओ से संविदा समाप्त करने की कार्रवाई शुरू करने को कहा है। बीएसए दीपिका चतुर्वेदी ने 18 नवंबर को

निपुण आकलन परीक्षा के दौरान उच्च प्राथमिक विद्यालय अंगनाकोल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान प्रभारी प्रधानाध्यापक हरीश प्रसाद विलंब से पहुंचे। अनुदेशक नीरज यादव दो नवंबर से बिना किसी सूचना के अनुपस्थित

थी। सहायक अध्यापिका शालिनी सिंह शिक्षक डरो नहीं दिका सकी। बीएसए ने प्रभारी प्रधानाध्यापक हरीश प्रसाद का वेतन रोकते हुए जवाब मांगा है। सहायक अध्यापिका शालिनी से भी स्पष्टीकरण मांगा।

अनुदेशक नीरज यादव का मानदेय अग्रिम आदेश तक रोकते हुए संविदा समाप्त करने की कार्रवाई शुरू करने का निर्देश दिया। प्राथमिक विद्यालय अंगनाकोल में सहायक अध्यापिका अमिता सिंह के पास शिक्षक डायरी नहीं मिलने पर साक्ष्य सहित जवाब मांगा है। प्रधानाध्यापिका से विद्यालय की कमियों के बारे में जवाब तलब

किया गया है। धनपतगंज के भीखरपुर स्कूल में अध्यापिका नम्रता सिंह अनुपस्थित पाई गई। बीएसए ने वेतन रोकने के साथ जवाब तलब किया है। कक्षा तीन के बच्चों से बीएसए ने सवाल पूछे, जिसका ये संतोषजनक जवाब नहीं दे गए बीएसए ने प्रधानाध्यापक को नोटिस देकर अपना स्पष्टीकरण खंड शिक्षाधिकारी के माध्यम से भेजने का निर्देश दिया है।

प्राथमिक विद्यालय मायंग प्रथम में सहायक अध्यापिका पूजा यादव ने आकस्मिक अवकाश लिया था लेकिन उपस्थिति पंजिका पर प्रधानाध्यापक की ओर से उसका अंकन नहीं किया गया था। विद्यालय में कई काम अधूरे पाए गए मामले में बीएसए ने प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण तलब किया है