45 हजार शिक्षकों को पुरानी पेंशन की उम्मीद

● जनवरी 2004 से पूर्व विज्ञापन वालों को केंद्र देगा पुरानी पेंशन

● संसद में जवाब देते हुए केंद्रीय विधि और न्याय मंत्री ने स्पष्ट किया

एक बार फिर से पुरानी पेंशन का मामला जीवन्त हो चला हैं। राज्य के शिक्षक-कर्मचारी लंबे समय से पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग कर रहे थे। हम एक बार फिर इस मसले पर आगे बढ़ेंगे। आमोद श्रीवास्तव, विधि सलाहकार, विशिष्ट बीटीसी शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन

प्रयागराज, । नई पेंशन योजना लागू होने से पहले विज्ञापित पदों पर एक जनवरी 2004 के बाद चयनित कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ देने की केंद्र सरकार की तैयारियों के बीच उत्तर प्रदेश के 45 हजार परिषदीय शिक्षकों को भी पुरानी पेंशन मिलने की आस जगी है। केंद्रीय विधि और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू ने संसद में एक प्रश्न का जवाब देते हुए 28 जुलाई को स्पष्ट किया है कि एक जनवरी 2004 से पूर्व विज्ञापित पदों पर चयनित कर्मियों को पुरानी पेंशन का आदेश जारी करने में कोई कानूनी बाधा नहीं है।

केंद्र सरकार ने एक जनवरी 2004, जबकि उत्तर प्रदेश सरकार ने एक अप्रैल 2005 को नई पेंशन योजना लागू की थी। यूपी में विशिष्ट बीटीसी 2004 बैच का विज्ञापन नई पेंशन योजना लागू होने से लगभग सवा साल पहले 14 जनवरी 2004 को जारी हुआ था लेकिन चयनित 45,660 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बाद में दिसंबर 2005 और जनवरी 2006 में मिलने के कारण उन्हें अब तक पुरानी पेंशन का लाभ नहीं मिल सका है। विधि मंत्री के जवाब के बाद विशिष्ट बीटीसी बैच के चयनित शिक्षकों ने भी विधिक राय लेनी शुरू कर दी है। इससे पहले भी ये शिक्षक हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक पुरानी पेंशन बहाली की लड़ाई लड़ चुके हैं लेकिन सफलता नहीं मिली। अब विधि मंत्री के बयान के बाद ये शिक्षक केंद्र सरकार की ओर से आदेश जारी होने का इंतजार कर रहे हैं। आदेश के बाद ये शिक्षक भी अपने हक की आवाज तेज करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.